Meerut News

एसएसपी प्रभाकर चौधरी की बड़ी कार्यवाही, गुप्त जांच में दोषी पायें गयें थानाध्यक्ष व कास्टेबल के खिलाफ मुकदमा दर्ज।

Meerut

Meerut News : इंस्पेक्टर और हेड कॉन्स्टेबल पर रिश्वत लेने का आरोप,मुकदमा दर्ज,कॉन्स्टेबल गिरफ्तार, थाने से नदारद हुए इंस्पेक्टर।

मेरठ के थाना सदर बाजार का हेड कांस्टेबल मनमोहन रिश्वत लेता रंगे हाथों पकड़ा गया। इस मामले में थाना सदर बाजार इंस्पेक्टर बिजेंद्र राणा को भी भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के मुकदमे में आरोपी बनाया गया है। रिश्वत लेते हुए हेड कांस्टेबल को एसएसपी प्रभाकर चौधरी द्वारा बनाई टीम ने रंगे हाथों दबोचा।

विनित भटनागर, एसपी सिटी, मेरठ

उधर हेडकांस्टेबल की गिरफ्तारी की सूचना मिलते ही इंस्पेक्टर सदर बाजार बिजेंद्र राणा थाने से नदारद हैं । बताया जाता है कि वो सरकारी कार्य से मेरठ से बाहर गए हुए हैं ।
बता दें कि इस प्रकरण की जांच में सबूत के आधार पर सदर बाजार के हेडकांस्टेल और इंस्पेक्टर के खिलाफ भ्रष्टाचार का मुकदमा दर्ज किया गया है। आरोप है कि दोनों ट्रक चोरी के एक मुकदमे की विवेचना में वसूली कर रहे थे।

एसपी सिटी विनीत भटनागर ने बताया कि थाने के हेडकांस्टेबल और इंस्पेक्टर ट्रक चोरी के मामले में पूछताछ के लिए लाए गए खतौली के वकार को छोड़ने के एवज में एक लाख की रिश्वत मांग रहे थे। पचास हजार की रकम पहले ही मनमोहन हेडकांस्टेबल मनमोहन को दी जा चुकी थी। बाकि की रकम हेड कांस्टेबल मनमोहन को दी जानी थी। खतौली का वकार शाम चार बजे थाने के बाहर पोस्ट ऑफिस के सामने मनमोहन को बाकी रकम देने पहुंचा। तभी एसपी सिटी की टीम ने मनमोहन को रिश्वत के पैसों के साथ पकड़ लिया। रिरश्वतखोर मनमोहन को एसएसपी के सामने पेश किया गया। जिसमें उसने बताया कि इंस्पेक्टर बिजेंद्र राणा के कहने पर वो रुपये लेने गया था।

उसने बताया कि इंस्पेक्टर इससे पहले भी ट्रक स्वामी और चालक को छोड़ने की एवज में तीन लाख की रकम वसूल चुके हैं। एसएसपी ने इंस्पेक्टर के आवास की तलाशी लेने के आदेश दिए। वहीं आरोपी इंस्पेक्टर नाटकीय ढंग से गायब हो गए हैं बताया ये भी जाता है कि वो सरकारी कार्य से जनपद से बाहर चले गए हैं। देर रात हेडकांस्टेबल और इंस्पेक्टर के खिलाफ सदर बाजार थाने में भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम में मुकदमा दर्ज किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *